LPG गैस सिलेंडर की लगातार बढ़ती कीमतों में आम आदमी के घर का बजट बिगड़ दिया है। ऐसे में अगर घरेलू गैस पर मिलने वाली सब्सिडी (LPG Gas Cylinder Subsidy) भी नहीं मिले तो ये महंगाई की दोहरी मार और कमर तोड़ डालेगी. केंद्र सरकार ने बुधवार को रसोई गैस सिलेंडर के दाम (LPG Gas Cylinder Price) 25 रुपये की वृद्धि कर दी.

वहीं इसके साथ व्‍यवसायिक उपयोग के लिए नीले गैस सिलेंडर में कीमत में 75 रुपये बढ़ा दिए. इन बढ़ी हुई कीमतों के बाद मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में घरेलू गैस सिलेंडर 900 रुपये का बिक रहा है जबकि कमर्शियल गैस सिलेंडर 1700 रुपये का हो गया. लेकिन हद तो तब हो गई जब लोगों को सब्सिडी (LPG Gas Cylinder Subsidy) बीते कई महीनों से नहीं मिली और इसका खुलासा बीती दो सितंबर को हुआ. हालांकि कुछ ऐसे भी लोग हैं जो घरेलू गैस सिलेंडर के बढ़े हुए दामों के चलते सब्सिडी नहीं मिलने के कारण जलाऊ लकड़ी का इस्तेमाल वापस करने लगे हैं.

दरअसल सरकारी आकड़ों के मुताबिक बीते एक साल में घरेलू गैस सिलेंडर पर 400 रुपये तक बढ़ा दिए गए हैं. आंकड़ों पर गौर करें तो जो घरेलू गैस सिलेंडर अगस्त 2020 में 600 रुपये का था वहीं गैस सिलेंडर अब 900 रुपये से 1000 रुपये तक में बिक रहा है. लेकिन चौकाने वाली बात यह है कि सरकार ने अब घरेलू गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी भी खत्म कर दी है.

ऐसे में सोशल मीडिया पर जब एक यूजर्स को जवाब में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने ट्विटर पर रिप्लाई करते हुए कहा, प्रिय ग्राहक मई 2020 से सब्सिडी और गैर सब्सिडी वाले घरेलू गैस सिलेंडरों की कीमतों में कोई अंतर नहीं है. इसलिए किसी भी ग्राहक को सब्सिडी की राशी हस्तांतरित नहीं की जाएगी. जिसके बाद मध्य प्रदेश से कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा. कुणाल चौधरी ने सरकार के इस रिप्लाय का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए कहा, मोदी मतलब महंगाई, मोदी सरकार जनता पर बनकर आफत है आई. #मोदीमंदीमहंगाई. वही मध्य प्रदेश एलपीजी डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा कि, फिलहाल किसी भी सिलेंडर पर सब्सिडी नहीं आ रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here