Image Source- PTI

नई दिल्ली: देश में किसानों को आंदोलन करते हुए अक्टूबर में 1 साल पूरा हो जाएगा। परंतु किसान अब भी तीन कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने के लिए आंदोलन कर रहे हैं। इसी सिलसिले में हाल ही में किसानों ने उत्तर प्रदेश मुजफ्फरनगर में महापंचायत भी आयोजित की थी, जिसके बाद से किसानों का यह आंदोलन और भी तेजी पकड़ता हुआ दिख रहा है।

इसके बाद किसानों ने कल भारत बंद का ऐलान किया है। और कल 27 सितंबर को जो किसान इस आंदोलन में शामिल है, उनका भारत बंद है। इस आंदोलन में जो भी शामिल है, उन सभी ने आंदोलन से जुड़ी सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। 27 सितंबर को भारत बंद रहेगा। इस बात का समर्थन कई राजनीतिक पार्टियां भी कर चुकी हैं।

किसान नेताओं ने बताया कि कल भारत पूरी तरह से बंद रहेगा। जो भी किसान या लोग इस आंदोलन में शामिल है, सभी मिलकर सुबह के 6:00 बजे से लेकर शाम के 4:00 बजे तक दिल्ली बॉर्डर के सभी रास्तों को बंद रखेंगे, एवं वहां जाम करेंगे।

जब से आंदोलन शुरू हुआ, तब से ही दूर दूर गांवों से भी किसान इसमें आ रहे थे परंतु इस बार ऐसा नहीं होगा। इस बार गांव से किसानों को आने नहीं दिया जाएगा। जो किसान गाजीपुर बॉर्डर पर मौजूद है, वह सभी NH-9 और NH-12 पर अपना धरना जारी रखेंगे।

बीकेयू ने किया समर्थन

भारतीय किसान यूनियन भी किसानों की पूरी तरह से पक्ष में है। भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक इस बारे में कहते हैं कि, बीकेयू ने कार्यकर्ताओं से इस समर्थन को सफल बनाने की गुहार लगाई है। उन्होंने आगे कहा कि भारत बंद को प्रयास करके सफल बनाने के लिए जनपदों में लगातार बैठक चल रही है। सभी जिलों में सुबह 6:00 बजे से शाम को 4:00 बजे तक पूरे भारत में किसानों द्वारा बॉर्डर बंद किया जाएगा। यदि पुलिस किसानों को वहां से हटाने की कोशिश भी करती है तो, किसान जेल जाना ज्यादा पसंद करेंगे पर जब तक सरकार मांगे पूरी नहीं कर देती, यह आंदोलन नहीं रुकेगा, संयुक्त किसान मोर्चा के अनुसार।

जाने क्या रहेगा बंद

1.प्राइवेट दफ्तर

2. शिक्षण संस्थान

3. दुकानें

4. व्यवसायिक प्रतिष्ठान

5. मालवाहक गाड़ियां भी दिल्ली में घुस या निकल नहीं सकती।

जाने क्या रहेगा खुला

1.एंबुलेंस के लिए रास्ते खुले रहेंगे.

2. सभी इमरजेंसी सेवाओं के लिए आया और जाया जा सकेगा।

3. किसी भी जरूरी इंटरव्यू और परीक्षा के लिए भी जाया जा सकेगा।

भारत सरकार जब तक कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती आंदोलन रहेगा जारी

इस बारे में बीकेयू नेता का कहना है कि, भारत सरकार जब तक तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती है, तब तक किसानों का आंदोलन इसी तरह से चलता रहेगा। इससे पहले किसानों के नेता राकेश टिकैत ने ट्वीट के माध्यम से पीएम मोदी के अमेरिकी दौरे पर, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन से गुहार लगाई थी कि, प्रधानमंत्री से किसानों की समस्याओं के हल के बारे में वह बात करें। भारत बंद को कई राजनीतिक पार्टियों जैसे कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, वाम दलों के अलावा तेलुगू देशम पार्टी ने भी अपना समर्थन दिया है, कि सभी पार्टियां किसानों के साथ हैं। इस दौरान दिल्ली में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम भी किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here