22/September/2021, IST 21:45 PM

Image Source- Zee News

मेरठ: उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने बुधवार को देश के ”सबसे बड़े धर्मांतरण रैकेट” का भंडाफोड़ करने का दावा किया और मौलाना कलीम सिद्दीक़ी को मेरठ से गिरफ्तार किया।

यूपी एटीएस के मुताबिक, सिद्दीकी को धर्म परिवर्तन कराने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. उनका नाम उमर गौतम मामले की जांच के दौरान सामने आया था। उमर गौतम को जून में उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा कथित रूप से धर्मांतरण रैकेट चलाने के आरोप में गिरफ्तार करने के बाद जेल में डाल दिया गया था।

64 वर्षीय मौलवी संदिग्ध गतिविधियों को लेकर सुरक्षा एजेंसियों के रडार पर था। मंगलवार देर रात मेरठ पहुंचते ही उसे उठा लिया गया। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

एटीएस के प्रवक्ता के मुताबिक मौलाना कलीम सिद्दीकी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के फूलत का रहने वाला है. पुलिस के अनुसार, इस्लामिक मौलवी जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाता है, जो कई मदरसों को फंड करता है, जिसके लिए सिद्दीकी पर भारी विदेशी फंडिंग हासिल करने का आरोप है।

उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा, “जांच से पता चलता है कि मौलाना कलीम सिद्दीकी के ट्रस्ट को बहरीन से 1.5 करोड़ रुपये सहित विदेशी फंडिंग में 3 करोड़ रुपये मिले। इस मामले की जांच के लिए एटीएस की छह टीमों का गठन किया गया है। ।”

उत्तर प्रदेश एटीएस के महानिरीक्षक जीके गोस्वामी ने कहा कि सिंडिकेट ने भारत में लगभग 1000 लोगों को धर्मांतरित किया है। मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी और मोहम्मद उमर गौतम को जून में दिल्ली के जामिया नगर इलाके से बधिर छात्रों और गरीब लोगों को इस्लाम, पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) से कथित फंडिंग के साथ धर्मांतरण की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

इस बीच, अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी ने इस्लामिक विद्वान की गिरफ्तारी की कड़ी निंदा की है। उत्तर प्रदेश एटीएस द्वारा धर्म परिवर्तन सिंडिकेट चलाने के आरोप में मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी पर समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान बरक ने कहा कि “ये गलत है, भाजपा सरकार के पास मुसलमानों को परेशान करने के अलावा कोई काम नहीं है”।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here