20/September/2021, IST 20:29 PM

Image Source- Amar Ujjala Newspaper

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने, पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। जिसके बाद वहां के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को बनाया गया है। इस बात की खबर पंजाब प्रभारी के द्वारा ट्वीट के माध्यम से पंजाब के लोगों को दी गई है।

चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जो दलित हैं। चरणजीत सिंह चन्नी के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्हें सभी से बधाइयां भी मिलने लगी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी चरणजीत सिंह को ट्वीट के माध्यम से शुभकामनाएं दी।

एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी चरणजीत सिंह को ट्वीट के द्वारा शुभकामनाएं दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी चरणजीत सिंह को शुभकामनाएं दी है।

एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी चरणजीत सिंह को ट्वीट के द्वारा शुभकामनाएं दी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी चरणजीत सिंह को शुभकामनाएं दी है।

चरणजीत सिंह चन्नी ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, शपथ लेने से पहले पंजाब ,रूपनगर के एक गुरुद्वारे में जा कर पूजा भी की

Image Source- ANI

पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अपने शपथ ग्रहण समारोह में शपथ लेने से पहले पंजाब ,रूपनगर के एक गुरुद्वारे में जा कर पूजा भी की थी। जिसके बाद उन्होंने पंजाब के 17 मुख्यमंत्री बनने के तौर पर शपथ ग्रहण की। शपथ ग्रहण समारोह चंडीगढ़ में हुआ। मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी सीधा मुख्यमंत्री कार्यालय के लिए रवाना हो गए, और उन्होंने सभी कार्यभार भी संभाल लिया है। इसके साथ ही साथ सुखजिंदर रंधावा और ओमप्रकाश सोनी ने भी उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली, और अपना कार्यभार संभाला।

मुख्यमंत्री बनते ही किया फ्री बिजली और पानी देने का ऐलान

पंजाब के मुख्यमंत्री ने अपने शपथ ग्रहण समारोह के बाद, एक प्रेस कांफ्रेंस बुलाई प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री ने बहुत ही भावुक कर देने वाली बातें कि, उन्होंने बताया कि वह एक गरीब आदमी है। उनके सिर पर छत भी नहीं हुआ करती थी, परंतु आज मैं यहां हूं मुख्यमंत्री पद पर कांग्रेस पार्टी ने मुझे इस कुर्सी पर लाकर बिठा दिया है, जहां मेरी कोई औकात नहीं थी।

चरणजीत सिंह चन्नी ने मीडिया के सामने बयान देते हुए कहा कि, “मैं आम आदमी और गरीब का नुमाइंदा है, चाहे गरीब किसान है या दुकानदार, चाहे किसी भी जाति का गरीब है, मैं गरीबों का नुमाइंदा नहीं हूं, न उन लोगों का नुमाइंदा हूं जो अपनी सोच में कालिख रखते हैं, मेरे साथ वहीं लोग मिलें जो पंजाब की सेवा करना चाहते हैं, जो रेत का कारोबार करना चाहते हैं वे मेरे साथ न मिलें, जो माफिया काम करना चाहते हैं वे मेरे साथ न मिलें मैं उनका नुमाइंदा नहीं हूं। मै रिक्शे वाले का नुमाइंदा हूं, मैं पंजाब के आम लोग का नुमाइंदा हूं, पंजाब में आम आदमी का राज स्थापित हुआ है, पंजाब में कांग्रेस का राज स्थापित हुआ है।”

नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह ने किसानों के बारे में भी कहा। उन्होंने कहा कि, “पंजाब सरकार हर तरीके से किसानों के संघर्ष के साथ खड़ी है। हम किसानों के संघर्ष के लिए सबकुछ छोड़ने के लिए तैयार हैं, हम पंजाब के किसान को कमजोर नहीं होने देंगे। हम किसानों के संघर्ष का पूरी तरह समर्थन करते हैं और केंद्र से अपील करते हैं कि इन कानूनों को वापस लिया जाए।”

मुख्यमंत्री ने किसानों के लिए कहा कि पंजाब के सभी किसानों के बिजली एवं पानी के बिल माफ किए जाएंगे। और रेत माफिया के खिलाफ भी कुछ जरूरी फैसले लिए जाएंगे। वह कहते हैं कि, “मै नहीं सुनना चाहता कि पंजाब में कोई रेत माफिया भी है, आज ही इसका फैसला कैबिनेट में कर देंगे। जो बहुत जरूरी है कि किसानों के खेतों के लिए बिजली माफ रहे, किसानों को इसकी आवश्यकता है, लेकिन साथ में गरीबों को पीने के पानी का बिल भी माफ होगा। 10-10 लाख के बिल खड़े हैं, सारे बिल आज माफ कर देंगे कैबिनेट की पहली बैठक में। किसी भी गरीब का कनेक्शन इस वजह से नहीं कटेगा कि उसका बिल देने के लिए बचा हुआ है। अगर पिछले 5-10 सालों में बिजली के बिल के लिए किसी का कनेक्शन काटा गया है तो वह कनेक्शन भी बहाल होगा।”

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि गुरु के लिए सब कुछ हाजिर है। सबकुछ संविधान के द्वारा चलाया जाएगा। सब के साथ सब अच्छा होगा। पंजाब में पारदर्शी सरकार बनाई जाएगी। यहां कोई भी किसी को भी परेशान नहीं कर पाएगा। सभी लोगों के साथ एक समान इंसाफ होगा। ईमानदारी हमारे साथ है।

उन्होंने कहा कि, “मेरा बिस्तर मेरी गाड़ी के बीच में ही लगा हुआ है, मैं 4 बजे ही निकल जाता हूं, और जहां पहुंचना होता है वहां 7 बजे पहुंच जाता हूं, मैं पंजाब के घर घर जाऊंगा और दफ्तरों में जाऊंगा, 2 दिन तक तो पक्का दफ्तरों का दौरा करूंगा और वहां पर लोगों की बातें सुनूंगा, डीसी को हिदायत है कि यह नहीं कि लोग लाइन लगाकर बाहर बैठे हों और आप अंदर चाय पी रहे हों।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here