Image Source- Shahid Afridi Instagram

पिछले कुछ समय से पाकिस्तान क्रिकेट के सितारे बुलंदियों पर नहीं चल रहे हैं। यहां अन्य देशों की क्रिकेट टीमें अक्सर आने से कतराती हैं। बहुत समय बाद न्यूजीलैंड के क्रिकेट टीम पाकिस्तान दौरे पर वनडे क्रिकेट और T20 क्रिकेट की यह दो सीरीज खेलने के लिए गई थी। टीम सुरक्षित वहां पहुंच गई। जिसके बाद सीरीज के पहले मैच वाले दिन न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीम ने मैच शुरू होने के कुछ मिनट पहले ही सीरीज रद्द करने का फैसला लिया, और अपने फैसले के मुताबिक वापस अपने देश लौट गई। इसके बाद मैं वजह दी गई कि सुरक्षा कारणों की वजह से कीवी टीम पाकिस्तान से वापस लौटी थी।

वहीं दूसरी तरफ इंग्लैंड से भी पाकिस्तान की सीरीज होनी थी, इसके लिए इंग्लैंड की टीम को पाकिस्तानी दौरे पर जाना था, परंतु इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने खिलाड़ियों का मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य ठीक ना होने की बात कहकर सीरीज को रद्द किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही T20 वर्ल्ड कप है जिससे पहले खिलाड़ियों को आराम दिए जाने की आवश्यकता है।

पाकिस्तान दोनों क्रिकेट बोर्ड की इन दलीलों को मान नहीं रहा है। पाकिस्तान दोनों टीमों से भड़का हुआ नजर आ रहा है। वहां की क्रिकेट बोर्ड के सभी सदस्य इस पर अपनी भड़ास निकाल चुके हैं। इसके बाद अब इस पर वहां के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी का भी बयान आ चुका है।

इस बारे में अफरीदी ने कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड किसी भी अन्य देश को दौरे पर बुलाने से पहले सभी सुरक्षा की स्थितियों की जांच कराता है। वह सुरक्षा के इंतजाम पुख्ता होने पर ही मेहमान टीम को दौरे पर आने के लिए हरी झंडी दिखाता है। इसके बावजूद भी न्यूजीलैंड ने दौरा रद्द कर दिया है। इसको माफी नहीं दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि यह बात हम सभी अच्छी तरह जानते हैं जब किसी भी क्रिकेट टीम को दौरे पर बुलाया जाता है तो, सभी मोर्चों पर जांच की जाती है। और इसके अलावा जो देश यात्रा करने के लिए आता है उसके भी सुरक्षा सदस्यों के द्वारा जांच की जाती है। इसके अलावा यह भी पहले से निर्धारित किया जाता है कि, टीम कौन से रास्ते से आएगी और कौन से रास्ते से जाएगी। सारी सुरक्षा की गतिविधियां पूरी तरह होने के बाद ही दूसरे देश को बुलाया जाता है।

अफरीदी ने क्रिकेट पाकिस्तान से कहा , “पाकिस्तान में न्यूजीलैंड के क्रिकेटरों को प्यार किया जाता है और उनके लिए ऐसा कुछ करना अक्षम्य है। अगर कोई संभावित खतरा था, तो उन्हें पीसीबी के साथ साझा किया जाना चाहिए था और स्थिति का आकलन करने के लिए पाकिस्तान के सुरक्षा बलों का इंतजार करना चाहिए था।”

अफरीदी ने कहा, “हम सभी जानते हैं कि जब पर्यटन की व्यवस्था करने की बात आती है तो बहुत बड़ी मात्रा में जांच होती है। यात्रा करने वाले राष्ट्र के सुरक्षा सदस्यों द्वारा उचित जांच की जाती है। मार्गों को परिभाषित किया जाता है और केवल जब प्रक्रिया पूरी हो जाती है, तभी टीमों को देश का दौरा करने के लिए हरी झंडी दी जाती है।”

दरअसल पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने यह दावा किया था कि न्यूजीलैंड की टीम पाकिस्तान से दौरा रद्द करके इसलिए गई क्योंकि भारत ने उसको धमकी से भरा एक ईमेल भेजा था। उन्होंने कहा था कि, यह ईमेल जो न्यूजीलैंड को भेजा गया था वह, “सिंगापुर का स्थान दिखाते हुए एक वीपीएन के माध्यम से भारत से उत्पन्न हुआ था”।

इसी बयान के आधार पर अफरीदी ने इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के साथ भारत को भी लपेटे में लेते हुए कहा कि, “वे सभी शिक्षित राष्ट्र हैं और उन्हें भारत का अनुसरण नहीं करना चाहिए। इसके बजाय, क्रिकेट को संबंधों में सुधार करना चाहिए। भारत में स्थिति खराब थी। हमें धमकियां मिल रही थीं। हमारे बोर्ड ने हमें जाने के लिए कहा और हम वहां गए। इसी तरह कोविड-19 के दौरान इंग्लैंड में जो हालात थे, क्रिकेट चलता रहा। अगर आप झूठे ई-मेल पर भरोसा करते हैं और टूर कैंसिल करते हैं तो मेरा मानना ​​है कि आप उन्हें जीतने के लिए चारा दे रहे हैं ।”

“अगर आपको बड़ी तस्वीर देखनी है तो मुझे लगता है कि हमें एक ऐसा निर्णय लेने की ज़रूरत है जो दुनिया को दिखाए कि हम भी एक देश हैं और हमें अपना गौरव है। एक देश हमारे पीछे है तो ठीक है, लेकिन मुझे नहीं लगता कि दूसरे देशों को भी वही गलती करनी चाहिए, ” अफरीदी ने कहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here